पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम कैसे करवाएं

नमस्कार दोस्तों आज हम जानेगें की पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम कैसे करवाएं जब किसी पिता का दुखद निधन होता है, तो समाज और परिवार के सभी लोगों के लिए यह एक बड़ी हानि होती है। और ऐसे स्थिति में कुछ लोग पिता की मृत्यु के बाद जमीन को अपने नाम करवाना होता है। इस ब्लॉग में, हम आपको पिता की मृत्यु के बाद जमीन को अपने नाम करवाने के सभी नियम और कानून के बारे में बताएंगे।

पिता की मृत्यु के बाद उनकी संपत्ति उनके वंशजों के नाम होती है, जिसमें उनकी जमीन भी शामिल होती है। जब आप अपने पिता के नाम का जमीन अपने नाम पर करवाते हैं तो उसके नाम के साथ संपत्ति का अधिकार होता है। यदि आप अपने पिता के नाम का जमीन अपने नाम पर करना चाहते हैं, तो आपको उनकी मृत्यु के बाद उनकी संपत्ति को अपने नाम पर ट्रांसफर करना होगा। जिसकी पूरी जानकारी इस आर्टिकल में देंगे

पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • वसीयत / वसीयतनामा।
  • जाती प्रमाण पत्र ।
  • निवास प्रमाण पत्र ।
  • उत्तराधिकार प्रमाणपत्र।
  • वंशावाली सूची प्रमाण पत्र।
  • पिता के मृत्यु प्रमाण पत्र की प्रमाणित प्रति।
  • शपथ पत्र के साथ अन्य उत्तराधिकारियों / उत्तराधिकारियों से अनापत्ति प्रमाण पत्र।
  • त्याग पत्र (यदि आवश्यक हो)
  • उपहार विलेख (यदि आवश्यक हो)

पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम कैसे करवाएं

  • पिता के मिरयु के बाद जमीन अपने नाम करने के लिए आपको सबसे जमीन पर अपना हकदार दिखने के लिए कोई एक सबूत देना प्रस्तुत करना होगा.
  • इसके बाद वंशज की एक वंशावली बनाए. वंशावली संपत्ति के बटवारे में मदद करती है.
  • वंशावली के आधार पर पिता की पैतृक संपत्ति परिवार के प्रत्येक सदस्य के बिच समान रूप से बटवारा की जाएगी.
  • प्रॉपर्टी के बटवारा होने के बाद ऑनलाइन दाखिल खारिज कराए. दाखिल ख़ारिज कराने करने बाद वेरीफिकेशन के लिए आपको अंचल में जाना होगा.
  • वेरीफिकेशन के लिए सभी हिसेदार को सभी दस्तावेज लेके जाना अनिवार्य है.
  • यह सभी प्रक्रिया पूरी होने बाद अपने पिता के जमीन को अपने नाम करा सकते है.

पिता की संपत्ति अपने नाम कैसे करें

पिता की मृत्यु के बाद जमीन का संपत्ति के रूप में वारिसों को मिलता है। इसके लिए जमीन का नाम उनके नाम पर करवाया जाना चाहिए। पिता की मृत्यु के बाद जमीन’बाप की संपत्ति’ कहा जाता है। जब बाप की मृत्यु हो जाती है तो उसकी संपत्ति उसके वारिसों को मिलती है। उन्हें जमीन का नाम अपने नाम पर करवाना होता है। इसके लिए वारिसों को निम्नलिखित कागजात जमा करने होते हैं

  1. मृतक के निधन प्रमाण पत्र
  2. मृतक के संपत्ति का विवरण (Property Details)
  3. वारिसों का विवरण (Heirship Certificate)
  4. जमीन का प्रॉपर्टी का संबंधित दस्तावेज (Property Deed)

इन दस्तावेजों के साथ-साथ वारिसों को एक अनुरोध पत्र भी जमा करना होता है। इस पत्र में उन्हें अपने पिता के नाम सहित अपने विवरणों का विस्तृत विवरण देना होता है।

जमीन से सबंधित प्रशन(FAQ)

क्या जमीन के नाम करवाने के लिए कोई दस्तावेज चाहिए होते हैं?

हां, जमीन के नाम करवाने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज चाहिए होते हैं जैसे कि मृतक का मृत्यु प्रमाणपत्र, मृतक के नाम से जमीन का प्रमाणपत्र, नाम करवाने वाले के नाम के प्रमाण पत्र, फोटो ID प्रूफ आदि।

जमीन के नाम करवाने की प्रक्रिया कितनी समय लगती है?

जमीन के नाम करवाने की प्रक्रिया लगभग 30-45 दिनों तक चलती है।

क्या जमीन अपने नाम करवाने के लिए कोई शुल्क देना पड़ता है?

हां, जमीन अपने नाम करवाने के लिए कुछ शुल्क देना पड़ता है। शुल्क की राशि राज्य और जमीन के क्षेत्र के आधार पर अलग-अलग होती है। और रजिस्ट्री एवं स्टम्प के हिसाब से तय किया जाता है

इसे भी पढ़ें

जमीन का दस्तावेज कैसे निकाले

जमीन का रसीद कैसे कटे झारखण्ड

टिकट कंफर्म हुआ या नहीं कैसे पता करें

पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम कैसे करवाएं इससे संबंधित सारी जानकारी ऊपर विस्तार रूप से हमने बताया है उम्मीद है कि यह जानकारी आप सभी को अच्छे से समझ में आ गई होगी जिससे कि आप पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम करवा सकते हैं अगर इससे संबंधित आपके मन में कोई भी सवाल है तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं हम आपको सवालों का जवाब जल्दी ही दे देंगे