पिता और माता की मृत्यु के बाद संपत्ति का मालिक कौन होता है

पिता और माता की मृत्यु के बाद संपत्ति का मालिक कौन होता है पिता और माता की मृत्यु के बाद, बच्चों के मन में कई सवाल होते हैं। इनमें से एक सवाल होता है कि संपत्ति का मालिक कौन होता है। यह एक ऐसा सवाल होता है जो बहुत सारे लोगों के मन में उठता है। इसलिए, हम इस विषय पर थोड़ी जानकारी देंगे और आपको बताएंगे कि पिता और माता की मृत्यु के बाद संपत्ति का मालिक कौन होता है।

जब पिता और माता की मृत्यु हो जाती है, तो संपत्ति उनके वंशजों को मिल जाती है। वंशजों में बच्चे, पति-पत्नी और माता-पिता शामिल हैं। लेकिन संपत्ति के बारे में ये जटिल सवाल हैं जब दो या दो से अधिक बच्चे हों या कोई संपत्ति विवाद का विषय बन जाए। इस स्थिति में न्यायालय में मामला दाखिल किया जा सकता है ताकि विवाद का समाधान किया जा सके।

वैसे, भारतीय कानून के अनुसार, पिता या माता की संपत्ति नियमित रूप से वंशजों के बीच बाँट दी जाती है। वंशजों को संपत्ति के अनुसार विभाजित किया जाता है उदा। यदि पिता या माता की संपत्ति में कोई घर है, तो घर का मालिकत्व संपत्ति के अनुसार वंशजों में बांटा जाता है।

क्या होता है जब कोई व्यक्ति मर जाता है

जब कोई व्यक्ति मर जाता है तो उसकी संपत्ति का विवादित मामला उत्पन्न हो सकता है। संपत्ति विवाद के मामले में विवादित व्यक्ति के साथ कोर्ट में लड़ाई करनी पड़ सकती है। लेकिन यदि कोई व्यक्ति मृत्यु के बाद कोई वसीयत नहीं छोड़ता है तो संपत्ति का मालिक व्यक्ति के वारसों में बांटा जाता है।

इसे भी पढ़ें – मोबाइल से नया आधार कार्ड कैसे बनाएं

मां की संपत्ति पर किसका अधिकार होता है

मां की संपत्ति पर अधिकार उनके पुत्र और अविवाहित पुत्री को होती है जैसे कि उनकी पुत्र दो और अविवाहित पुत्री एक हैं तो इन सभी को बराबर हिस्सों में संपत्ति पर अधिकार होता है मां की मृत्यु के बाद पति के संपत्ति पर अधिकार नहीं होता है अगर मां का पुत्र या पुत्री नहीं है तो क़ानूनी तौर पर उनकी संपत्ति उनकी पति को हो जाती है

अगर मां मृत्यु से पहले अपनी संपत्ति या वसीयात है अपने पति के नाम पर कर जाती है तो ऐसी स्थिति में संपत्ति का अधिकार उनके पति को ही दी जाती है यह कर उनकी मां बिना वसीयत किए मर जाती है तो ऐसी स्थिति में उनकी संपत्ति पर अधिकार उनके पुत्र या पुत्री को होती है

इसे भी पढ़ें – अपने मोबाइल से पैन कार्ड कैसे बनाएं

क्या माता पिता की संपत्ति पर बेटे का कोई अधिकार है

भारतीय कानून के अनुसार जब किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो उसकी संपत्ति उसके वंशजों को मिल जाती है। वंशजों में बेटे, अविवाहित बेटियां, माता-पिता और पति-पत्नी शामिल हैं। संपत्ति के पंजीकरण के समय वंशजों का अधिकार स्पष्ट रूप से उपलब्ध कराया जाता है।

इस प्रकार, जब तक वे जीवित हैं, माता-पिता उनकी संपत्ति के मालिक हैं। लेकिन, वे संपत्ति का नाम दर्ज कराकर अपनी संपत्ति अपने वंशजों को दे सकते हैं। तो ऐसे में अगर कोई बेटा पिता की संपत्ति में अधिकार चाहता है तो उसे कानूनी रूप से अपनी इच्छा के अनुसार संपत्ति का हस्तांतरण करना होगा।

पिता की जमीन पर किसका हक होता है

पिता के भूमि पर उसके वंशजों का अधिकार होता है, लेकिन यह भी ध्यान रखना आवश्यक है कि यदि पिता की वसीयत हो तो संपत्ति का उसी के अनुसार बंटवारा हो जाता है। जिसके अनुसार वसीयत में जिस संपत्ति के मालिक का नाम लिखा होता है, उसे ही संपत्ति का मालिक माना जाता है।

इसके साथ ही जमीन पर अधिकार जताने से पहले उस जमीन से जुड़े सभी दस्तावेजों की जांच कर लेनी चाहिए। अगर कोई जमीन का दावा करने जा रहा है, तो उसे उस जमीन के सभी संबंधित दस्तावेजों का विश्लेषण करना चाहिए, जैसे कि भूमि रिकॉर्ड में उस जमीन का नक्शा, खसरा नंबर इत्यादि |

कुछ आम सवाल (FAQ)

क्या बेटी को माता-पिता की संपत्ति का हिस्सा मिलता है?

हां, बेटी को भी माता-पिता की संपत्ति का हिस्सा मिलता है। वे अपने माता-पिता की संपत्ति का उपयोग कर सकती हैं जब तक वे जीवित हैं और उनके नाम पर संपत्ति दी गई है तो वे उसे बेच सकती हैं।

क्या बेटे को माता-पिता की संपत्ति का हिस्सा मिलता है?

जी हां, माता-पिता की संपत्ति में बेटे को भी हिस्सा मिलता है। वे संपत्ति का एक हिस्सा प्राप्त कर सकते हैं जो उनके नाम पर है या जो संपत्ति के नाम पर वसीयत में उनके पास छोड़ दिया गया है। लेकिन एक शर्त है कि यह संपत्ति तब हासिल नहीं की जाती जब वे खरीदने या कमाने वाले हों।

क्या अंतरिम विवाद में बेटे को संपत्ति मिलता है?

यदि अंतरिम विवाद के दौरान माता-पिता संपत्ति का विवाद करते हैं, तो उनके बच्चों को उस संपत्ति का हिस्सा नहीं मिलता है। लेकिन जब कोई विवाद होता है तो बच्चों को अपने अधिकारों के लिए लड़ने का अधिकार है।

इसे भी पढ़ें

पिता की मृत्यु के बाद जमीन अपने नाम कैसे करवाएं

जमीन का दस्तावेज कैसे निकाले

पिता और माता की मृत्यु के बाद संपत्ति का मालिक कौन होता है इस विषय में सारी जानकारी विस्तार से बताया है उम्मीद है कि यह जानकारी आप लोगों की अच्छी लगी होगी इस तरह के और भी जानकारी जानना चाहते हैं तो आर्टिकल के माध्यम से आपको मिल जाएगी इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद